शेयर बाजार निवेश के लिए व्यक्तिगत वित्तीय योजना (Personal Financial Planning for Stock Market Investing)

by | Jan 4, 2024 | 0 comments

वित्तीय योजना क्या है? (What is Financial Planning?)

वित्तीय योजना एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें हम अपनी वित्तीय स्थिति को निर्धारित करने और अपने वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एक योजना तैयार करते हैं। यह योजना हमें अपने आर्थिक लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए किसी निश्चित समयावधि में कैसे काम करना है, वित्तीय संसाधनों को कैसे प्रबंधित करना है, और निवेश के लिए कैसे तैयार होना है, ये सब बताती है।

वित्तीय योजना बनाने का मुख्य उद्देश्य होता है कि हम अपने आर्थिक लक्ष्यों को पूरा कर सकें और वित्तीय सुरक्षा को बनाए रख सकें। इसके अलावा, यह हमें अपनी वित्तीय स्थिति को स्पष्ट रूप से समझने में मदद करता है और हमारे वित्तीय निर्णयों को सावधानीपूर्वक लेने में सहायक होता है।

वित्तीय योजना तैयार करने के लिए हमें अपने आर्थिक लक्ष्यों को स्पष्टतः परिभाषित करना होता है। इसमें हम यह निर्धारित करते हैं कि हम कितनी धनराशि जमा करना चाहते हैं, आवागमन की आय कैसे बढ़ा सकते हैं, और आर्थिक सुरक्षा की दिशा में कैसे कदम बढ़ा सकते हैं।

वित्तीय योजना के तहत, हम अपने आर्थिक संसाधनों का परिचय बनाते हैं, जिसमें आम आय, निवेश, और ऋण का विवरण शामिल होता है। हम इसके बाद अपने वित्तीय लक्ष्यों के आधार पर वित्तीय योजना बनाते हैं, जिसमें निवेश की दिशा, लक्ष्यों की महत्वपूर्णता, और समयावधि का निर्धारण होता है।

इसके बाद, हम अपनी वित्तीय योजना को निरंतर मॉनिटर करते रहते हैं और आवश्यकता अनुसार संशोधन करते हैं ताकि हम अपने लक्ष्यों को पूरा कर सकें। वित्तीय योजना बनाने के माध्यम से हम अपने आर्थिक लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सही दिशा में कदम बढ़ा सकते हैं और अपने वित्तीय सपनों को हकीकत बना सकते हैं।

शेयर बाजार में निवेश क्यों महत्वपूर्ण है ?

शेयर बाजार में निवेश का महत्व जानना व्यक्तिगत वित्तीय योजना तैयार करते समय अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसके पीछे के कुछ मुख्य कारणों को देखते हैं:

  • धन की वृद्धि (Wealth Growth): शेयर बाजार में निवेश के माध्यम से आपका पैसा वृद्धि कर सकता है। यहाँ, आप विभिन्न शेयरों में निवेश करके अपने पैसे को बढ़ा सकते हैं, जिससे आपकी धनराशि बढ़ती है।
  • आर्थिक सुरक्षा (Financial Security): शेयर बाजार में निवेश करने से आप आर्थिक सुरक्षा प्राप्त कर सकते हैं। आपके पास अच्छे निवेशों की वजह से अत्यधिक आय होती है, जिससे आपके लिए वित्तीय सुरक्षा की गारंटी होती है।
  • अच्छे लाभ की संभावना (Potential for Good Returns): शेयर बाजार में निवेश करने से आपके पैसे का उपयोग अच्छे लाभ की संभावना होती है। यदि आप सही शेयरों में निवेश करते हैं, तो आपको अच्छे लाभ मिल सकते हैं।
  • सामाजिक और आर्थिक लक्ष्यों की पूर्ति (Achieving Social and Financial Goals): शेयर बाजार में निवेश करने से आप अपने सामाजिक और आर्थिक लक्ष्यों को पूरा कर सकते हैं। यह आपको आर्थिक दृष्टि से स्थिरता प्रदान करता है और आपके लक्ष्यों की पूर्ति में मदद करता है।
  • वित्तीय ज्ञान का विकास (Development of Financial Knowledge): शेयर बाजार में निवेश करने से आप वित्तीय ज्ञान को बढ़ावा देते हैं। आप सीखते हैं कि कैसे निवेश करना है, कैसे शेयरों का चयन करना है, और कैसे वित्तीय योजना तैयार करनी है।

इन कारणों के साथ, शेयर बाजार में निवेश व्यक्तिगत वित्तीय योजना का महत्वपूर्ण हिस्सा बन सकता है और आपको आर्थिक स्थिति में सुधार करने में मदद कर सकता है।

निवेश के लिए व्यक्तिगत लक्ष्य कैसे तय करें ?

निवेश करने के लिए व्यक्तिगत लक्ष्य तय करना एक महत्वपूर्ण कदम होता है जो आपके निवेश की सफलता पर असर डाल सकता है। यहाँ आपको यह जानने में मदद मिलेगी कि व्यक्तिगत लक्ष्य कैसे तय करें:

  • आर्थिक लक्ष्यों का परिभाषण करें (Define Financial Goals): सबसे पहला कदम है अपने आर्थिक लक्ष्यों को स्पष्ट रूप से परिभाषित करना। आपके पास वित्तीय स्थिति को सुधारने के लिए क्या लक्ष्य हैं, इसे तय करें। आपके लक्ष्य हो सकते हैं, घर की खरीददारी, बच्चों की शिक्षा, आर्थिक सुरक्षा, या रिटायरमेंट प्लानिंग जैसे।
  • लक्ष्यों को मापनीय बनाएं (Make Goals Measurable): अपने लक्ष्यों को मापनीय बनाने के लिए उन्हें संख्याओं और दिनांकों के साथ जोड़ें। आपको यह स्पष्ट होना चाहिए कि आपके पास कितने पैसे की आवश्यकता है, और किस समय तक आप अपने लक्ष्य को पूरा करना चाहते हैं।
  • लक्ष्यों की प्राथमिकता तय करें (Set Priorities for Goals): सभी लक्ष्य एक साथ पूरे नहीं हो सकते, इसलिए आपको यह तय करना होगा कि कौनसे लक्ष्य आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण हैं। आप इन्हें प्राथमिकता देने के आधार पर निवेश करेंगे।
  • निवेश की समयावधि तय करें (Determine Investment Horizon): आपके लक्ष्यों की समयावधि को तय करना भी महत्वपूर्ण है। आपको यह जानना होगा कि आपके लक्ष्य कब पूरे होने चाहिए, और उसके आधार पर निवेश की योजना तैयार करनी होगी।
  • रिस्क और लाभ की स्वीकृति (Acceptance of Risk and Return): आपको यह भी तय करना होगा कि आप कितना रिस्क उठा सकते हैं और किता लाभ प्राप्त करना चाहते हैं। इसके आधार पर आप उपयुक्त निवेश विकल्प चुन सकते हैं।

निवेश के लिए व्यक्तिगत लक्ष्य तय करने के बाद, आप अपनी वित्तीय योजना को सफलतापूर्वक तैयार कर सकते हैं और अपने लक्ष्यों को पूरा करने के दिशा में कदम बढ़ा सकते हैं।

वित्तीय लक्ष्य की प्राप्ति के लिए निवेश योजना

आपके वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एक सटीक निवेश योजना बनाना महत्वपूर्ण है। निवेश योजना बनाते समय निम्नलिखित महत्वपूर्ण कदमों का पालन करें:

  • निवेश का लक्ष्य तय करें (Define Investment Objective): पहला कदम है यह निर्धारित करना कि आपने किस लक्ष्य को पूरा करने के लिए निवेश करना है। आपके लक्ष्य क्या हैं, कैसे उन्हें पूरा किया जाएगा, और उनकी महत्वपूर्णता क्या है, इसे स्पष्ट रूप से परिभाषित करें।
  • लक्ष्य की समयावधि निर्धारित करें (Set Timeframe for Goals): आपको यह तय करना होगा कि आपके लक्ष्य को कितने समय में पूरा किया जाना है। यह आपके निवेश की समयावधि को निर्धारित करने में मदद करेगा।
  • निवेश और लाभ की प्राप्ति के लिए निवेश विकल्प चुनें (Select Investment Options for Growth and Returns): आपको यह तय करना होगा कि आप किस प्रकार के निवेश विकल्प का चयन करेंगे। यह निवेश आपके लक्ष्य को पूरा करने के लिए कैसे मदद करेगा और कितना लाभ प्राप्त हो सकता है।
  • निवेश के लिए बजट तय करें (Allocate Budget for Investments): निवेश योजना में आपको यह तय करना होगा कि आप कितने पैसे को निवेश के लिए उपलब्ध करा सकते हैं। आपके पास उपलब्ध धनराशि के आधार पर निवेश करने की योजना तैयार करें।
  • निवेश की स्थिति को निरंतर मॉनिटर करें (Monitor Investment Progress): निवेश योजना के साथ, आपको निवेश की स्थिति को निरंतर मॉनिटर करना होगा। यह आपको यह जानने में मदद करेगा कि कैसे आपके लक्ष्यों की ओर पूरी तरह से बढ़ रहे हैं और क्या किसी बदलाव की आवश्यकता है।

एक महत्वपूर्ण बात यह है कि आप अपनी निवेश योजना को नियमित रूप से संशोधित करते रहें ताकि आपके वित्तीय लक्ष्यों की पूरी तरह से प्राप्ति हो सके।

शेयर बाजार में निवेश के लिए बजट बनाना 

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए बजट बनाना एक महत्वपूर्ण कदम है, क्योंकि यह आपको निवेश के लिए उपलब्ध धनराशि को स्पष्ट रूप से परिभाषित करने में मदद करता है और आपके वित्तीय स्वाधीनता को बनाए रखने में मदद करता है। निम्नलिखित हैं कुछ महत्वपूर्ण चरण जो आपको बजट बनाते समय ध्यान में रखने चाहिए:

  • मासिक आय का निर्धारण करें (Determine Monthly Income): सबसे पहला कदम है आपकी मासिक आय को निर्धारित करना। यह आपके पास निवेश के लिए कितना पैसा उपलब्ध है यह जानने में मदद करेगा।
  • निवेश के लिए आवश्यक वित्तीय योग्यता का निर्धारण करें (Assess Financial Capability for Investment): आपको यह जानना होगा कि आप कितना पैसा निवेश के लिए सामर्थ्य हैं और कितना रिस्क उठा सकते हैं। आपके पास निवेश के लिए उपलब्ध पैसे के आधार पर एक वित्तीय सीमा तय करें।
  • लक्ष्य का निर्धारण करें (Set Investment Goals): आपको यह तय करना होगा कि आपके निवेश के क्या लक्ष्य हैं। क्या आप एक निश्चित लक्ष्य के लिए निवेश कर रहे हैं, या लंबे समय के लिए निवेश कर रहे हैं, यह तय करें।
  • निवेश योजना बनाएं (Create an Investment Plan): आपको निवेश के लिए एक योजना तैयार करनी होगी, जिसमें आप निवेश के लिए कितना पैसा निर्धारित करेंगे, कितने समय के लिए निवेश करेंगे, और किस प्रकार के निवेश विकल्पों का चयन करेंगे।
  • रिस्क प्रबंधन करें (Manage Risk): निवेश में रिस्क होता है, लेकिन आप इसे प्रबंधित कर सकते हैं। यदि आप जानते हैं कि आपके पास ज्यादा रिस्क उठाने की क्षमता है, तो आप उस अनुसार निवेश कर सकते हैं।
  • निवेश को मॉनिटर करें और संशोधित करें (Monitor and Adjust Investments): आपको निवेश की स्थिति को निरंतर मॉनिटर करना होगा और आवश्यकता अनुसार निवेश को संशोधित करना होगा। यह आपको निवेश की सफलता की दिशा में बनाए रखने में मदद करेगा।

एक ठोस निवेश बजट तैयार करने से आप शेयर बाजार में निवेश करने के लिए सटीक योजना बना सकते हैं और अपने लक्ष्यों को पूरा करने के दिशा में कदम बढ़ा सकते हैं।

निवेश उद्देश्य के आधार पर शेयर चयन 

निवेश करते समय शेयर चयन एक महत्वपूर्ण कदम होता है, क्योंकि यह आपके निवेश उद्देश्य को पूरा करने में मदद करता है। आपके निवेश उद्देश्य के आधार पर शेयर चयन करते समय निम्नलिखित कारकों को ध्यान में रखने चाहिए:

  • लक्ष्य की समयावधि (Time Horizon of Goals): यदि आपके निवेश उद्देश्य की समयावधि लंबी है, तो आप अधिक धीरे-धीरे बढ़ने वाले शेयरों में निवेश कर सकते हैं, जो अधिक लाभ कमाने की संभावना रखते हैं।
  • लक्ष्य का प्रकार (Type of Goal): आपके लक्ष्य के प्रकार के आधार पर आप शेयर चयन कर सकते हैं। उदाहरणस्वरूप, यदि आप निवेश करके लंबे समय तक लक्ष्य को पूरा करना चाहते हैं, तो आप विकसन के शेयरों में निवेश कर सकते हैं।
  • रिस्क टोलरेंस (Risk Tolerance): आपकी रिस्क टोलरेंस को ध्यान में रखकर शेयर चयन करें। अगर आपकी रिस्क टोलरेंस कम है, तो आप स्थिर और सुरक्षित शेयरों में निवेश कर सकते हैं।
  • वित्तीय स्थिति (Financial Situation): आपकी वित्तीय स्थिति के आधार पर शेयर चयन करें। यदि आपके पास अधिक पैसे हैं, तो आप अधिक मूल्यवर्धित शेयरों में निवेश कर सकते हैं।
  • शेयर की विशेषता (Stock Specifics): शेयर की विशेषताओं को ध्यान में रखें, जैसे कि कंपनी की क्रियाकलाप, फायदे, और रिस्क।
  • वित्तीय योजना (Financial Plan): आपकी वित्तीय योजना के आधार पर शेयर चयन करें। यह योजना आपके निवेश उद्देश्य के साथ मेल खाती है।
  • विशेषाधिकार (Special Considerations): कुछ विशेषाधिकार, जैसे कि कर नियम और निवेश के लिए पैसे की उपलब्धता, भी शेयर चयन पर प्रभाव डाल सकते हैं।

निवेश उद्देश्य के आधार पर शेयर चयन करने से आप अपने निवेश को अधिक प्रावधानिक और सफल बना सकते हैं। ध्यानपूर्वक विचार करके और अपने वित्तीय सलाहकार से परामर्श लेकर आप निवेश उद्देश्य के अनुसार सही शेयरों में निवेश कर सकते हैं।

निवेश में विस्तारित योजना

निवेश करते समय विस्तारित योजना एक महत्वपूर्ण धारणा है जो आपके निवेश को सुरक्षित और लाभकारी बनाती है। यह एक विशेष प्रकार के जोखिम को कम करने में मदद करता है और आपकी पोर्टफोलियो को स्थिर बनाता है। निवेश में विस्तारित योजना बनाते समय ध्यान में रखने योग्य कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं की चर्चा निम्नलिखित है:

  • विविधता का महत्व (Importance of Diversity): विस्तारित निवेश का महत्व समझने के लिए हमें यह समझना होगा कि विभिन्न निवेशों में निवेश करने से हम अपने पोर्टफोलियो को विभिन्न प्रकार के जोखिमों से बचा सकते हैं।
  • निवेश के विकल्प (Investment Options): निवेश में विस्तारित योजना बनाते समय हमें अलग-अलग प्रकार के निवेशों के विकल्पों का अध्ययन करना होगा। इसमें शेयर बाजार, विपणन बाजार, गोल्ड, निवेश के योजनाएं, और निवेश के फंड शामिल हो सकते हैं।
  • विश्वासनीय निवेश उपकरण (Trustworthy Investment Instruments): हमें विश्वासनीय निवेश उपकरणों का चयन करना होगा जो हमारे निवेश के लिए उपयुक्त हों। इसमें वित्तीय सलाहकारों की सलाह, निवेश कंपनियों की सलाह, और वित्तीय संस्थाओं के परामर्श का सहयोग शामिल हो सकता है।
  • निवेश का निर्णय (Decision of Investment): विविध निवेश के विकल्पों में से निवेश करते समय हमें यह तय करना होगा कि हम कितना पैसा एक प्रकार के निवेश में करेंगे और कितना दूसरे प्रकार के निवेश में।
  • निवेश की संरचना (Portfolio Structure): विविध निवेश की संरचना का तय करने में हमें यह तय करना होगा कि हम कितना पैसा किस निवेश में करेंगे और उसका क्या वित्तीय प्रमाण होगा।
  • निवेश की निगरानी और संशोधन (Monitoring and Adjusting Investments): विविध निवेश के साथ हमें निवेश की स्थिति को निगरानी करना और आवश्यकता अनुसार निवेश को संशोधित करना होगा।

विविध निवेश की योजना बनाने से हम अपने निवेश को सुरक्षित और लाभकारी बना सकते हैं और विभिन्न प्रकार के जोखिमों से बच सकते हैं। यह एक महत्वपूर्ण धारणा है जो हर निवेशक को अपनानी चाहिए।

वित्तीय सुरक्षा के लिए बीमा 

वित्तीय सुरक्षा का महत्व समझने के लिए हमें यह समझना होगा कि जीवन में आने वाली आकस्मिक घटनाओं का सामना कैसे करना है। बीमा एक ऐसा वित्तीय उपाय है जो हमें आकस्मिक खतरों से बचाता है और हमारी वित्तीय सुरक्षा को बनाए रखने में मदद करता है।

बीमा क्या है?

बीमा एक समझदार फैसला है जो हम आकस्मिक घटनाओं से बचाने के लिए लेते हैं। इसमें हम प्रीमियम के रूप में एक निश्चित राशि देते हैं और विमा कंपनी हमें आकस्मिक घटनाओं के मामले में वित्तीय सहायता प्रदान करती है।

वित्तीय सुरक्षा के लिए बीमा के फायदे:

  • जीवन की सुरक्षा: जीवन बीमा व्यक्तिगत और परिवारिक सुरक्षा प्रदान करता है। यह परिवार को आकस्मिक मौकों पर वित्तीय सहायता प्रदान करने में मदद करता है।
  • स्वास्थ्य बीमा: स्वास्थ्य बीमा आपके मेडिकल खर्चों को कवर करता है और आपको आकस्मिक बीमा के तहत असामयिक बीमा की जरूरत नहीं पड़ती है।
  • जीवन के लिए बचत: बचत बीमा एक वित्तीय योजना हो सकता है जिसमें आप नियमित अंशदान करके अपने भविष्य के लिए पैसा बचा सकते हैं।
  • वित्तीय स्थिति की सुरक्षा: बीमा वित्तीय स्थिति को सुरक्षित रखने में मदद करता है, जिससे आपके पास आकस्मिक घटनाओं के लिए पैसा होता है।

कैसे चुने बीमा?: बीमा चुनते समय हमें अपनी जरूरतों के आधार पर बीमा का चयन करना होता है। हमें व्यक्तिगत और परिवारिक आवश्यकताओं के आधार पर जीवन बीमा, स्वास्थ्य बीमा, और असामयिक बीमा का चयन कर सकते हैं।

संक्षेप में: वित्तीय सुरक्षा के लिए बीमा हमारे जीवन को सुरक्षित बनाता है और अनछुए खतरों से हमें बचाता है। यह वित्तीय सुरक्षा का महत्वपूर्ण हिस्सा है और हमें इसका सही तरीके से उपयोग करना चाहिए।

वित्तीय सलाहकार की मदद 

वित्तीय सुरक्षा और निवेश के क्षेत्र में निवेश करने से पहले वित्तीय सलाहकार की मदद लेना एक महत्वपूर्ण कदम हो सकता है। वित्तीय सलाहकार आपके वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं और आपके लिए सही निवेश के रास्ते का पता लगा सकते हैं। निम्नलिखित हैं कुछ कारण जिनके लिए वित्तीय सलाहकार की मदद लेना महत्वपूर्ण हो सकता है:

  • वित्तीय लक्ष्यों का विश्लेषण: वित्तीय सलाहकार आपके वित्तीय लक्ष्यों का विश्लेषण करेंगे और यह तय करने में मदद करेंगे कि आपको कितना निवेश करना चाहिए और किस प्रकार के निवेश करने चाहिए।
  • निवेश योजना तैयार करना: वित्तीय सलाहकार आपके लिए वित्तीय योजना तैयार करेंगे जिसमें आपके निवेश के लक्ष्य, समयफ्रेम, और निवेश के प्रकार को शामिल किया जाएगा।
  • रिस्क प्रबंधन: वित्तीय सलाहकार आपको निवेश के साथ आने वाले जोखिमों को समझाएंगे और आपको सही तरीके से रिस्क प्रबंधन करने में मदद करेंगे।
  • निवेश पोर्टफोलियो का प्रबंधन: वित्तीय सलाहकार आपके निवेश पोर्टफोलियो को समय-समय पर संशोधित करने में मदद करेंगे ताकि आपका पोर्टफोलियो हमेशा लाभकारी रहे।
  • वित्तीय शिक्षा: वित्तीय सलाहकार आपको वित्तीय ज्ञान प्रदान करेंगे जिससे आप निवेश के बारे में अधिक सीख सकें और समझ पाएं।
  • टैक्स प्लानिंग: वित्तीय सलाहकार आपको टैक्स प्लानिंग में मदद करेंगे ताकि आप टैक्स को कम कर सकें और अधिक सही रूप से निवेश कर सकें।
  • निवेश का मूल्यांकन: वित्तीय सलाहकार आपके निवेश के मूल्यांकन को मॉनिटर करेंगे और आपको निवेश के लिए सही फैसले लेने में मदद करेंगे।

वित्तीय सलाहकार की मदद लेना आपको वित्तीय सुरक्षा और सफल निवेश के लिए सही मार्ग पर ले जा सकता है। यह एक महत्वपूर्ण निवेश कदम हो सकता है जो हमें समझना चाहिए और अपनाना चाहिए।

निवेश के लिए नियमित निगरानी और संशोधन

निवेश करना एक दिन के काम नहीं है, बल्कि यह एक नियमित प्रक्रिया है जो निवेशक की निवेश की स्थिति को निगरानी करने और आवश्यकता अनुसार संशोधन करने में मदद करती है। यह एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो निम्नलिखित कारणों से महत्वपूर्ण है:

  • निवेश की स्थिति की निगरानी: निवेश की स्थिति को निगरानी करना यह देखने में मदद करता है कि कैसे आपके निवेश में चल रहे हैं। आपको जानने की आवश्यकता है कि आपके निवेश का मूल्य कितना है और क्या वो आपके लक्ष्यों के साथ मेल खाता है।
  • निवेश का संशोधन: निवेश की स्थिति के आधार पर निवेश को संशोधित करना यदि आवश्यक हो सकता है। यदि कोई निवेश अनुकूल नहीं है या सामय के साथ आपके लक्ष्यों के साथ मेल नहीं खाता है, तो आपको उसे संशोधित करने की आवश्यकता हो सकती है।
  • नई निवेश की योजना बनाना: आपके वित्तीय लक्ष्यों और परिस्थितियों के आधार पर नई निवेश की योजना बनाने में मदद करता है। आपके लक्ष्यों के साथ मेल खाने वाले निवेश के प्रकार को चुनने में मदद करता है।
  • वित्तीय स्वस्थता की सुरक्षा: नियमित निगरानी और संशोधन आपकी वित्तीय स्वस्थता की सुरक्षा में मदद करते हैं। यह आपको अनछुए जोखिमों से बचाता है और आपके निवेश को लाभकारी बनाता है।
  • निवेश संरचना की सुधारणा: निवेश की संरचना को सुधारने के लिए नियमित निगरानी आपको वित्तीय स्थिति को सुरक्षित और लाभकारी बनाने में मदद करती है।
  • संवितरित निवेश योजना: नियमित निगरानी के साथ, आप अपने निवेश योजनों को संवितरित कर सकते हैं ताकि आपके लक्ष्यों के आधार पर निवेश की योजना बनाई जा सके।

निवेश के लिए नियमित निगरानी और संशोधन निवेशक को उनके वित्तीय लक्ष्यों के प्राप्ति में मदद करते हैं और उन्हें वित्तीय सुरक्षा की साधना में मदद करते हैं। यह एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो हर निवेशक को अपनानी चाहिए।

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 4 =

Related Articles